Trueved

Trueved is about Personal development,quotes,shayri and blogging

Full width home advertisement

Post Page Advertisement [Top]

"sakhi shayri "

sakhi shayri - trueved.com




आँसुओ से भरी तुम्हें ज़िंदगी मिली
दुःख-पीड़ा से दूर जीना तू मेरी सखी
है मौन मेरा विष और घातक भी
जब बनता है बंधन प्रेम ही...




जीवन का मंत्र कहते हैं जिसे
मेरे जीवन मे विराजमान हो ऐसे,
तुम एक अनकहा अमोख सपना हो
मन,शरीर,आत्मा में स्थिर हो जैसे
आशा है तुम समझ पाओगी,
है मौन मेरा विष और घातक भी
जब बनता है बंधन प्रेम ही...






जहाँ जहाँ ना प्रेम मिले
वो रिश्ता बंजर हो जाये
आखरी है ये सच
सच तो है यही,
है मौन मेरा विष और घातक भी
जब बनता है बंधन प्रेम ही...




मन-मन की है लड़ाई
प्रेम एक जटिल कठिनाई,
मैं भटका-हारा 
कच्चे कर्मो का मारा,
हो गया तृप्त ,जब देखी मैंने 
हृदय से तुम्हारेे प्रेम-अम्रित की धारा,
आँसुओ से भरी तुम्हें ज़िंदगी मिली
दुःख-पीड़ा से दूर जीना तू मेरी सखी
है मौन मेरा विष और घातक भी
जब बनता है बंधन प्रेम ही ....




Writer-Vedant Patil(trueved)




"sakhi shayri " यह shayri आपको कैसी लगी? अपने विचार कमेन्ट कर के जरूर share करें.


आपके पास यदि Hindi में कोई article,shayri,या personal Development से जुड़ी कोई भी पोस्ट है तो आप हमे इस Mail id पे भेज सकते है। 

Mail id:trueved@gmail.com 

अगर हमे पोस्ट पसंद आयी तो आपके नाम और फोटो के साथ हम यहाँ PUBLISH करेंगे.

Thanks!

3 comments:

Bottom Ad [Post Page]

| Design Colorlib