Trueved

Trueved is about Personal development,quotes,shayri and blogging

Full width home advertisement

Post Page Advertisement [Top]

Writer-shayar Kaise bane | बिना डिग्री के रायटर-शायर कैसे बने


“HELLO” दोस्तों मेरा नाम है वेदांत और आप पढ़ रहे है आपका ब्लॉग trueved.com

तो दोस्तों
लिख रहे हो या नहीं?
सिखते रहो यार-लिखते रहो यार!

आज का हमारा टॉपिक है “लेखक कैसे बने ?” Writer-shayar कैसे बने?

जिन्हें पढ़ना पसंद है वो सब जीवन मे एक बार कभी न कभी जरूर सोचते हैं की क्या मैं अच्छा writer बन सकता हूँ ? और इसके साथ कई सवाल उनके मन मे आते है और वो कुछ सवाल सर्च करते है जैसे की,

Writer kaise bane?
How to become a writer?
Shayar kaise bane?
Writer-shayar kaise bane?
content writer kaise bane?
How to become a writer without a degree in hindi
How to become writer in india in hindi
How to become writer for beginners in hindi
What to do to be a good writer?


उफ़! कितने सवाल हैं,आपके मन में भी अगर ऐसे सवाल आते है
तो आज सभी का जवाब इस आर्टिकल में आपको मिल जायेगा.
ध्यान से देखा जाये तो सारे सवाल चाहे अलग लगते हो लेकिन कुल मिलाकर हमे यह
सिखाना है की लिखना कैसे है ?




Writer-shayar kaise bane - trueved.com


जरूरी नहीं है की लेखक बनने के लिए आपको डिग्री की ही आवश्यकता हैं आप अपनी मेहनत और लगन से भी एक अच्छा लेखक बन सकते हैं,और एक अच्छा लेखक बनने के लिए
हमें क्या करना चाहिए
और ऐसे कौन से skills हमें प्राप्त करने होंगे.
यूं कहें की, क्या-क्या हुनर होने चाहिए वो आज हम इस पोस्ट में जानेंगे.

तो चलिए जानते हैं कि What skills does writer need to learn या एक अच्छा लेखक बनने के लिए हमारे अंदर क्या-क्या हुनर का होना जरूरी है.


🔺What skills does writer need to learn



1.LANGUAGE LEARNING


आप चाहे कुछ भी लिखे वो एक लेख हो सकता है या कोई कविता,शायरी,कथा आदी.लेकिन उन सब के लिए आपकी भाषा पर पकड़ होना जरूरी है .

एक लेखक के लिए सबसे महत्व की बात यह होती है कि उसके लेख या कविता ज्यादा से ज्यादा लोग पढ़े और उसकी तारीफ़ करे,एक सच्चे लेखक का सुख इसमे छिपा होता है.

तो सोचिये आप अगर कुछ लिखते है और किसको वो समझ ही नहीं आये तो?

समझ से मेरा मतलब है कि आप जो भावना, विचार इत्यादि सोच कर लेखन करेंगे वो पढ़ने वाले को समझ आना चाहिए.

ईसिलीए भाषा का ज्ञान होना जरूरी हैं, अगर आप चाहते है कि ज्यादा से ज्यादा लोग आपके लेखन को पढ़े तो आपको अपनी भाषा पर थोड़ा ध्यान देना चाहिए. अगर आप अपने लेखन में सरल भाषा का इस्तेमाल करेंगे तो लोगों को आपका लेख आसानी से समझ में आएगा और आपका लेख हर कोई पढ़ पायेगा.

इसमे समझने वाली और एक बात हैं,सरल भाषा से मेरा मतलब है कि अगर आप beginner writer hai मतलब अभी अपने सिर्फ शुरवात की है,सीखने के लिए तो सरल भाषा का प्रयास करें.

जैसे जैसे आप नए शब्द सिखते जायेंगे आपकी शायरी,लेख एक मंझे हुए शायर,लेखक की तरह ढलती जाएगी.

अब एक उदाहरण से इसे समझते है,


उदाहरण- 

जैसे कि कुछ लोग जब बड़े शायर के शेर सुनते है तो वो उन्हें समझ नहीं आते.
तो इसकी वजह भी यहीं है कि बड़े शायर भाषा का उपयोग बहुत ही सटीक तरीके से करते है और हमारी भाषा के उपर ज्यादा पकड़ नही होती तो कुछ शब्दों के अर्थ हमे समझ नहीं आते.

और सीधी सी बात है जब शब्दों की अर्थ ही न पता हो तो आप पूर्ण कविता या शेर का अर्थ कैसे समझ पायेंगे? इसलिए चाहे वो लेखक हो या पढ़ने वाला पाठक दोनों के लिए भाषा का ज्ञान होना जरूरी है.

तो अंत मे आपसे यही कहूँगा कि धीरे धीरे अपने शब्दों का भंडार बढ़ाए और भाषा पर अपनी मजबूत पकड़ बनाये.


2.Reading habit


जब भी वक्त मिले तब किताबें पढ़े, और कोशिश करिए कि जितनी प्रकार की संभव हो, उतनी प्रकार की पुस्तकें पढ़ डालिए.यह करने के बाद आप समझने की कोशिश करें की,

उस किताब में कौनसे कौनसे अच्छे पात्र है?

उन पात्रो की विशेषताएँ क्या है?

ऐसा क्या है जो उस किताब को विशेष बनाता है?

ऐसा क्या है जिसने आपको किताब खत्म होने तक बांधे रखा?

यह जब आप जानेंगे उसका चिंतन,मनन करेंगे तो वह एक प्रकार से किताब का पूर्ण सार आपने ग्रहण करने जैसा होगा,और इसका फायदा आपको यह होगा की,

A)आपकी समझ बढ़ेगी.

B)आपको आपके लेखन में इससे हेल्प होगी,सरलता से आप लिख पायेंगे.

सौ बात की एक बात यहीं है की हमेशा कुछ न कुछ किताबें पड़ते रहें ,क्योंकि मेरा यह मानना हैं की, 
जब आप 1000 शब्द को पढ़ेंगे तभी आप 100 शब्दों को अपने दिमाग में रख पाते है यह human tendency होती है.

और हाँ जरूरी नहीं की सिर्फ किताबें ही पढ़ी जाए आप अपना ज्ञान बढाने के लिए online blogs,articles पढ़ सकते है,Youtube videos भी देख सकते है, अब तो आपके Trueved वेबसाइट पे भी ऐसी पोस्ट आती रहेंगी जिससे आपके लेखन ज्ञान में वृद्धि हो.

यह भी पढ़ें.






3.Time Investment (वक्त का सही इस्तमाल)

जितना वक्त आप आपकी रचना या लेख को देंगे वो उतनी बेहतर होती जाएगी.

मेरा वयक्तिक अनुभव यह है की जब भी मैं कुछ नया और meaningful लिखने की कोशिश करता हूँ, तब मेरे घंटो निकल जाते है,कभी कभी सोच विचार में पूर्ण दिन निकल जाता हैं तब जाके उसे मैं पूर्ण कर पाता हूँ ,तो यह तो पक्का है की कुछ अच्छा, बढ़िया निर्माण करने के लिए आपको वक्त बोहोत देना होगा.

इसलिए लेखन करना या लेखक बनना एक दिन का काम नहीं है आपका बोहोत सारा वक्त इसमें जायेगा इसके लिए आप तैयार रहें,मैं यह आपको इसलिए बता रहा हूँ क्योंकि यह इतना टाइम आपसे लेता हैं की आपको आपकी फैमिली और फ्रेंड्स को भी वक्त दे पाना मुश्किल कर देता हैं.(जिनका paasion लिखना हैं उनके साथ तो यह होता ही होता हैं,जो कभी कभी शौकि तौर पर लिखते हैं उनके साथ यह नहीं होता).
अपने काम में और फॅमिली,फ्रेंड्स के साथ बैलेंस करना कठिन तो हैं पर असंभव नहीं.मेरी भी यही समस्या हैं दोस्त तुम अकेले नहीं हो.

आप अगर लिखने के शौकीन हैं तो आप अपने लेखन को जितना हो सके उतना वक्त दे. अगर आप थोड़े से वक्त मैं ज्यादा लिखने की कोशिश करेंगे तो कुछ भी नहीं लिख पाएंगे और अगर लिख भी लिया तो आपकी लेखन मैं वह ख़ास बात नहीं होगी,क्योंकि लेखन एक ऐसा काम है जो शांति से ही हो सकता है,जल्दबाजी में नहीं.

इसीलिए आप अपने इस काम के लिए वक्त निकाले और लिखें.

कभी कभी ऐसा होता है कि लिखने का मन नहीं करता ,अगर ऐसा हो की लिखते-लिखते बीच मैं आपका मन लिखने को न करे तो उसी समय लिखना बंद कर दे.
फिर जब आप को कुछ विचार आये और आपको लिखने का मन करे तभी आप फिर से लिखना शुरू करे.



टिप -
घर आते समय या office को जाते समय बस या ट्रेन की सफ़र के दौरान आपको अगर कुछ मन में अच्छा विचार आता है तो उसे आप उसी वक्त लिख ले (note down) करे. चाहे वो लेखन कितना भी घटिया या अटपटा क्यों न हो.

इसकी भी एक वजह है जो कि मेरा वैयक्तिक अनुभव है की जब भी हम उसको लिख लेते है, तो बाद में वो एक नीव की तरह काम करता है उसको आप खाली वक्त में सोच विचार करके और थोड़े शब्दों के फेर बदल करके और भी बेहतर बना सकते है.
ये मेरा personal experience है और ये काफी अच्छी आदत हैं,मेरे काम तो आती है और मेरी आपसे रिक्वेस्ट है कि आप भी इसे आज़माए.

क्योंकि आप के मन में जब कोई विचार आता है और आप उसे कही भी नहीं लिखते,तो बाद में आप खुद से जब लिखने बैठेंगे तो आप को कुछ याद नहीं आएगा, हाँ अगर आप बोहोत ही मंझे हुए अनुभवी लेखक है तो शायद याद आ भी जाये,पर मेरे ख़याल से वो भी धुंदलासा याद आयेगा.

पर मेरा निवेदन आपसे यही है की आप उसे डायरी में या फिर फ़ोन के notepad में लिख ले.जब कुछ मन में विचार आये ,कोई एक शेर,सिर्फ एक लाइन ही क्यों न हो पर उसे जरुर लिख ले.


2.Meaningful writing (दिल से दिल तक लिखे ) 


हम कोई भी शेर जब पढ़ते हैं तो कुछ शेर हमें excite कर देते है ,एकदम से दिल को छुं जाते हैं.तो कोशिश करें कि जितना हो सके आप दिल से लिखे,ऐसा लिखे की पढने वाला आपकी समझ,आपके विचार भावना आदि से जुड़ सके उसे समझ पाए.

हम सब लोग नई-नई बातें जानने में उत्सुक होते हैं.जिस लेख,कहानी,कविता आदि को पढ़ने से हमे नई-नई बातों की जानकारी मिलती हैं,उसे हम पसंद करते है, तो कुछ ऐसा लिखे जो बिलकुल नया हो.इसकी वजह से आपके दो फायदे होते हैं.

A)आप लोगों को कुछ नया देके value provide करेंगे.

B)आपकी एक अलग पहचान बनेगी.

आप कहानी, कविता जो भी लिखे बस ध्यान रखे की बस तुकबाजी (rhyming) न करे,ईमानदारी से लिखे,आपके लेखन में एक सन्देश,भावना,विचार,तात्पर्य (moral meaning)आदि डालने की कोशिश करे.(यह सब कैसे करना हैं ये सब मैंने पॉइंट नो.7 में विस्तार से उदाहरण के साथ बताया हैं.)
हम सब लोग नई-नई बातें जानने में उत्सुक होते हैं.जिस लेख,कहानी,कविता आदि को पढ़ने से हमे नई-नई बातों की जानकारी मिलती हैं,उसे हम पसंद करते है, तो कुछ ऐसा लिखे जो बिलकुल नया हो.इसकी वजह से आपके दो फायदे होते हैं.

A)आप लोगों को कुछ नया देके value provide करेंगे.

B)आपकी एक अलग पहचान बनेगी.

आप कहानी, कविता जो भी लिखे बस ध्यान रखे की बस तुकबाजी (rhyming) न करे,ईमानदारी से लिखे,आपके लेखन में एक सन्देश,भावना,विचार,तात्पर्य (moral meaning)आदि डालने की कोशिश करे.(यह सब कैसे करना हैं ये सब मैंने पॉइंट नो.7 में विस्तार से उदाहरण के साथ बताया हैं.)

5.Take small steps (छोटे छोटे कदम उठाये)


आपने यह तो सुना ही होगा की "बूँद बूँद से तालाब भरता हैं"

मेरा कहने का मतलब यह है की आप सीधा किताब,उपन्यास और फ़िल्म स्क्रिप्ट नही लिख पाएंगे,एक दम से वह लिखना आपके लिए कठिन होगा,वह लिखने का व्यर्थ ही प्रयास न करे.

शुरवात में छोटे छोटे शेर,कविता,छोटे निबंध,छोटी कहानियां इत्यादि यह सब लिखने का प्रयास करे.
और जब आपको लगे कि आप ये सब अच्छे से लिख पा रहे है तब आगे का क़दम उठाएं.


6.Feedback From Readers (पाठकों से सुझाव ले ) 


A)हालांकि फीडबैक आपको सही मिलता है या नहीं ये थोड़ी संदेह जनक बात है लेकिन फीडबैक प्राप्त कर लेने से आपको कम से कम यह तो पता चल ही जाता है कि आपके काम में आप हैं कहाँ.

B)फीडबैक प्राप्त करने से आपको पता चलेगा कि आपका,

लेखन अच्छा है या नहीं?
उसमे क्या कमियाँ हैं ?
और बेहतर लिखने के लिए नए सुझाव ?
आपका लेखन प्रकाशन योग्य है या नहीं ?

लेकिन हाँ, आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि आप सही प्रकार के पाठकों से ही संपर्क कर रहे हों, वे लोग जो वास्तव में आपके काम को समझ सकते हों और जिन्हें पता हो कि आप किस संदर्भ में काम कर रहे हैं.


7.Be a Curious Researcher (जिज्ञासु संशोधक/खोजकर्ता बने) - 


मेरे ख़याल से एक लेखक को हमेशा जीवन में चीजों को जिज्ञासा /curiousity से देखना चाहिए.आपको हमेशा जीवन के हर एक आयाम को देखकर प्रश्न खुद से पूछने चाहिए और उसका उत्तर खोजने की कोशिश करनी चाहिए अपनी आसपास की दुनिया सिर्फ देखने के लिए न देखे उसे एक विचारवंत की तरह देखे,

ये थोडा मुश्किल लग रहा है न ?
अगर सच कहूँ तो हाँ ये थोडा मुश्किल जरुर है पर नामुमकिन नहीं हैं.
धीरे धीरे आपको इसकी आदत हो जाएगी अगर आप शुरवात करते है!

चलिए एक छोटा सा और आसान उदाहरण लेते हैं,बात छोटी सी होती है पर देखने का और उसे लिखने नज़रिया उसे कैसे बड़ा बनाता हैं.

उदाहरण-

Writer-shayar kaise bane


स्पष्टीकरण


ऊपर दिए गए शेर में मैंने कुछ शब्दों का प्रयोग जीवन में देखी हुई चीजों का विचार करके एक साथ जोड़ा है जैसे की ,
बलिदान,तपिश, छाया,खास मकसद ये सब शब्द बरगद की पेड़ की विशेषताएँ है, जिसकी तुलना मैंने ऐसे लोगो से की है की जो जिवन में बलिदान देते है, अपनों के लिए बरगद के पेड़ बनते है.
यानि उन्हें कोई नुकसान नहीं होने देते, वो खुद बोहोत कुछ सहते है,पर अपनों के साथ एक आधार स्तम्भ की तरह रहते है और उन्हें किसी भी तरह की हानि नहीं होने देते.

तो यह सब विचार कहा से आया बरगद के पेड़ से जो की बोहोत विशाल होता है और इसकी शाखाओं से जड़े निकलकर हवा में लटकती हैं और कुछ समय के बाद बढ़ते हुए धरती के भीतर घुस जाती हैं एवं स्तम्भ बन जाती हैं.इतना सब एक साथ दिमाग मे आना एक बाए लेखक के लिए थोड़ा कठिन हो सकता है। 
किन्तु असंभव नहीं,आपको किसी विषय मे सोचने मे अगर कुछ दिक्कत आए तो आप गूगल कर ले जैसा की अगर फिरसे उदाहरण बरगद के पेड़ का ले,तो आपको उसकी विशेषताए bargad-wikipedia पर मिल जाएगी,मे खुद इसका उपयोग अनेक बार करता हूँ जब मुझे कुछ गहन लिखने के लिए जानकारी की आवश्यकता होती हैं। 

तो कैसा लगा उदाहरण कमेंट्स में जरुर बताये.

तो अपने मुख्य मुद्दे पे आते है की अपने आसपास की दुनिया पर ध्यान दें,रहस्यों की तलाश करें और उन्हें हल करने का प्रयास करें,यदि आपके पास प्रश्न हैं, तो उसके उत्तर भी मौजूद है,तो जरूरत सिर्फ ध्यान से खोजने की है .मेरा यकीन माने यह आपके लेखन को अधिक सम्मोहक, समृद्ध और अधिक meaningful बनाने में मदद कर सकता है.

जीवन में हर क्षण कुछ न कुछ संकेत दिए जाते हैं जो आपको अपने आसपास की दुनिया का पता लगाने में मदद करेंगे: कुछ भी साधारण नहीं है,हर किसी और हर चीज के बारे में कुछ न कुछ अजीब या खास है.

आपके सामने एक रहस्य है ऐसा समझ कर उसे ढूंढे और समझने का प्रयास करे.


8.Template Making (ढांचा तैयार करें) 


आपके पास अगर नए विचार हैं, नए ideas हैं,आप उन्हें लिखना तो चाहते हैं,पर जब लिखने बैठते हैं तो भूल जाते हैं, लेखकों के साथ अक्सर ऐसा होता है,मेरे साथ तो ऐसा बोहोत बार हुआ है,की कुछ कमाल का मन में आता है,पर सही समय पर न लिखने के कारण वो भूल जाता हूँ,और बाद में पछतावा होता है.

यार! अब लिखने बैठा हूँ पर कुछ लिख क्यों नहीं पा रहा?

इसलिए एक डायरी ले और हर विचार को उसमे लिखते रहें,या फिर आप फ़ोन के नोट पैड का उपयोग भी कर सकते है, पर कल पर मत छोड़े ,उसे लिखे जरुर.

बाद में यही लिखे हुए विचार,ideas आपको एक बेहतरीन कहानी, कविता,शायरी और उपन्यास लिखने में मदद करेंगे,यह जरूरी नहीं की आप बैठ कर एक ही बार में पूरी कहानी लिखें या पूरा उपन्यास लिखेंगे, कहानी के लिए तैयार किया गया ढाँचा पहले बनाये .

अगर आप कहानी या ब्लॉग लिखने के बारे में सोच रहें हैं तो उसके बारे में जानकारी इकट्ठा करें, ब्लॉग पढ़ें, इंटरनेट पर पढ़ें। एक अच्छे लेख के लिए आपको पर्याप्त और सही जानकारी होनी बेहद जरूरी है.

conculsion 


मुझे उम्मीद हैं आज के इस post को पढ़कर आप लोगों को फायदा हुआ हैं,Writing ही जिन लोगो का सपना हैं उनके लिए इस post को पढ़ना बहुत जरूरी है क्योंकि आपको अगर एक बेहतर लेखक बनना है तो उसके विषय मे बहुत सारा ज्ञान होना भी आवश्यक है.

इसीलिए जब हम कोई काम संपूर्ण ज्ञान के साथ करते है तो हमसे कोई भी गलती नही होती जिसके कारण हमारा लिखा हुआ लेख,कविता,शायरी अपने सबसे बेहतर रूप में आती है. इसीलिए आपसे मेरी request है कि आज के इस पोस्ट को ध्यान से पढ़कर उसे अपनी रूटीन में लाये और एक लेखक जैसी आदते  बनाये.

दूसरी बात हर दिन कुछ ना कुछ लिखने का प्रयत्न करें, शुरुआत में आपको अपनी लिखावट बचकानी लग सकती है,परंतु, इससे हताश न हो.

लेखन का कार्य जारी रखे,आप एक दिन जरूर सफल होंगे,यह केवल और केवल आपकी रुचि और अभ्यास पर निर्भर है.

और ऐसा मत सोचिये की आप इतना सब कैसे सीखेंगे ?
इसमे कितना वक्त लगेगा?
यह तो बहुत कठिन लग रहा है !
देखिये मैंने भी जब शरुवात की थी मेरे मन मे भी ऐसे ही सवाल थे की,

लेखक कैसे बने ?
शायर कैसे बने ?
बिना डिग्री के हिंदी में लेखक कैसे बने ?
भारत में लेखक कैसे बने हिंदी में ?
Writer-shayar कैसे बने ?

पर एक दिल मे चाह थी कि सीखना है और अपने विचार,शायरी और आर्टिकल लिख के लोगो के सामने रखने है.

तो अंत मे आपसे यही कहूँगा की आप ठान ले कि मुझे यह करना ही है मुझे सीखना है अपने आप को वक्त दे क्योंकि कोई भी लेखक एक दिन में नही बनता धीरे धीरे वह सीखता है और आगे बढ़ते जाता है और आपको भी ऐसा ही करना है.

यदि आप ऐसे ही सिखते रहे तो मुझे पूरी उम्मीद हैं कि आप एक दिन एक बड़े लेखक ज़रूर बनेंगे.
आशा करता हूँ आज का यह पोस्ट Writer-shayar कैसे बने आपको एक बेहतर लेखक बनने में मदद करेगा.
और trueved को सोशल मीडिया पे follow करिए,जिससे आपको आने वाले समय में writing से जुड़ी और भी बाते और पोस्ट्स शेयर कर सकें .
आपका कोई लेखक मित्र हो तो उसे ये आर्टिकल जरुर शेयर करें.

Protip- 

मेरा सुझाव है आपसे या तो आप अपनी वैबसाइट बना ले या फिर अपना यूट्यूब चैनल बनाए,आप जो भी लिखते हैं उसे रेकॉर्ड कर के एक शानदार विडियो बना सकते हैं, यूट्यूब के लिए चाहे आपका video quality ठीक ठाक हो चल जाता हैं पर audio quality का अच्छा होना important होता हैं, बेहतर audio quality के लिए आप Maono AU-100 या फिर  Boya BYM1 ले सकते हैं। दोनों ही अच्छे हैं सिर्फ Maono AU-100 मे आपको कुछ एक्सट्रा चिजे मिलती हैं। 
दोनों मे से कोई भी इस्तेमाल कर सकते है।मैंने  दोनों का लिंक नीचे दे दिया हैं। 


               


धन्यवाद!

लेखक- वेदांत पाटिल (Trueved)

2 comments:

  1. Awesome article , today I got chance to learn many and imp things abt writing .And the thing which I liked most is - to note thoughts, I think this thing will help me in my personality development so, really thankful of u for sharing this idea and from today I will also try to follow this method .over all article was informative.I liked it .

    ReplyDelete
    Replies
    1. Your kind words warmed my heart,Thank you for your time today.KEEP WRITING!

      Delete

Bottom Ad [Post Page]

| Design Colorlib