Trueved

Trueved is about Personal development,quotes,shayri and blogging

Full width home advertisement

Post Page Advertisement [Top]

Kerala pregnant elephant death news in hindi


ये घटना Kerala pregnant elephant death की हैं जो की केरल के Malappuram
जिले की हैं ,एक गर्भवती मादा हाथी की मृत्य हो गयी,वजह जान के आपकी भी रूह काप जाएगी,वो मादा हाथी भूकी थी उसे वहा के कुछ लोगो ने अनानास मे पटाखे डाल दिये और उसे वो अनानास खाने के लिए दिया। 



Kerala pregnant elephant death news in hindi - trueved
Kerala pregnant elephant death news in hindi

मादा हाथीनी भूकी थी तो वो अनानास उसने खा लिया। और,वो पटाखे उस मादा हाथी के मुह मे ही फट गए ,मादा हाथी के पेट मे उसका नवजात बच्‍चा पल रहा था इस पटाखे की विस्फोट की वजह से वो भी मर गया। 

विस्फोट होने के कारण मादा हाथी का जबड़ा भी टूट गया उसकी वजह से बाद मे वो कुछ भी खा नहीं पा रही थी।

मादा हाथी खाने के लिए ढूंढ रही थी खुद अपने लिए नहीं उसके पेट मे पल रहे बच्चे के लिए जिसे वो कुछ 18 महीनो बाद जन्म देती,यदि वो बच्चा जीवित रेहता।

डॉक्टर्स ने बताया की मादा हाथी का जबड़ा और उसकी जीभ पूर्ण रूप से जल गया था,उसे इतनी पीड़ा हो रही होगी उस वक्त इसी वजह से कुछ और खा भी नहीं पायी होगी।

इसी कारण से मादा हथिनी बोहोत वक्त भूकी रही उसी वजह से उसके बच्चे को भी कुछ मिल नहीं पाया।ऐसी दर्दनाक मौत भगवान किसी को न दे। 

 pregnant elephant death in kerala की घटना की वहा के फॉरेस्ट अधिकारी ने एक विडियो बना लिया है जो की social media पे बहुत viral हो रहा है,

दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए ऐसी मांग सभी जनता अब कर रही है जो की सही भी हैं,ऐसे लोग सजा के पात्र हैं।मानवता से विश्वास उड़ेल देने वाली Kerala pregnant elephant death की ये
घटना है। 

पर्यावरण मंत्रालय ने Kerala pregnant elephant death की घटना को गंभीरता से लिया है। इस घटना पर पूरी छानबिन की रिपोर्ट मांगी है। जो भी दोषी हैं उनपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

शर्म आणी चाहिए ऐसे लोगो को अपने आप को इंसान कहते हुए जो अपनी कुछ शरारत को पूर्ण करने के लिए किसी निर्दोष प्राणी की हत्या कर देते हैं।

ये Kerala elephant death की घटना हमे ये बताती है की मानव जात कितनी कमीनी हो सकती है इसकी कोई हद नहीं है, मे ज़्यादातर personal development पे articles लिखता हूँ पर आज ये

Kerala की ये  pregnant elephant death की घटना सुनकर मेरा दिल दुख से भर गया इसी लिए मे इसपर लिखने से खुद को रोक नहीं पाया।

जहा कुछ लोग ऐसी हरकत करते हैं वो क्या personal development का विचार करते होंगे जिनमे मानवता का कोई अंश ही न बचा हैं,मेरा ये Kerala pregnant elephant death पोस्ट लिखने का कारण सिर्फ यही हैं की कैसे कैसे लोग है इस दुनिया मे जो होते है पर दिखाई नहीं देते। 

ऐसी  pregnant elephant death in kerala जैसी कुछ घटनाए होती है तो उनका छिपा हुआ रूप सामने आता हैं,जो लोग मासूम प्राणी के साथ ऐसा कर सकते हैं क्या वो इन्सानों के साथ ऐसा दुर्व्यवहार नहीं कर सकते?



हमे इस Kerala pregnant elephant death की घटना से क्या सीख मिलती हैं? 



Kerala pregnant elephant death news in hindi - trueved
Kerala pregnant elephant death  news in hindi

  • धोका

मानव केवल प्राणी के साथ धोखा नहीं करता अपनों के साथ या अपने फ़ायदे के लिए किसी और व्यक्ति के साथ भी करता है,आप कहंगे की भला कोई आदमी अनानास मे पटाखे डालकर किसी और आदमी को थोड़ी देगा ,मेरा कहने का मतलब ये नहीं था धोखा एक तरह का नहीं होता वो कुछ और भी हो सकता हैं, धोके के रूप चाहे अलग हो लेकिन धोखा देना तो कुछ मनुष्यों के स्वभाव मे ही होता हैं। 

हम एक बेहतर इंसान कैसे बन सकते हैं ? इसका विचार हमे आज नहीं तो कल करना ही होगा नहीं तो ऐसे दोगले लोग हमारा कब नुकसान कर देंगे हमें भनक भी नहीं लगेगी. 

  • विश्वास

किस पर कितना विश्वास करना चाहिए ? 


मादा हाथी तो मुकप्राणि थी, मुकप्राणि को तो आदत है हमेशा मानव पर विश्वास करता आया हैं क्योंकि Kerala elephant death जैसी घटना पहले भी कई बार हो चुकी हैं, चाहे उसका स्वरूप या यूं कहे तरीका अलग हो लेकिन धोके से मारना कई बार हो चुका है और होता आ रहा हैं,जैसे की किसी हाथी को भूका रहने देना जिससे उसकी मौत हो जाए या ऐसे किले हाथी को ठोक देना जिसे जंग लगा हो,उसके बाद उसे gangrene नामक रोग होता हैं जिससे उसके मरने के बाद insurance का बहुत पैसा उसके मालिक को मिलता है ये सब जानकारी animal rights activist Maneka Gandhi जी ने भी दी है। 

अब आप सोचिए क्या कोई प्राणी इस तरह प्लान करके अपने फ़ायदे के लिए मारता है क्या?

चाहे वो कोई भी प्राणी हो,उदाहरण के तौर पर हमे पता हैं बहुत से लोग कुत्ता पालते है,उसके कई कारण हैं पर मुझे मुख्य दो कारण नजर आते है।

1.वो प्राणिप्रेमी होते है ie.animal lover

2.क्योंकि कुत्ते वफादार होते हैं।

प्राणी या यू कहे कुत्ते वफादार इसलिए होते है की उनके मन मे कोई कपट नहीं होता,स्वार्थ नहीं होता वो अपने मालिक के प्रति पूर्ण समर्पित होते हैं उनसे वो निस्वार्थ प्रेम करते हैं,

पर मानव ?
क्या सभी मानव ऐसे है?

मैं आपकी जानकारी के लिए बता दूँ की,
मानव के तीन चहरे होते हैं

1.पहला चेहरा जो वो दुनिया को दिखाता हैं।

2.दूसरा चेहरा जो वो व्यक्ति अपने दोस्तों और फैमिली को दिखाता हैं।

3.तीसरा चेहरा जिसे उसने आज तक किसी को नहीं दिखाया हुआ होता हैं।


Kerala pregnant elephant death की ये घटना तीसरे चेहरे का स्वरूप हैं। जो वैसे किसको दिखता नहीं है पर ऐसी घटनाए होती है तो पता चलता है की मानव कितने निचले स्तर पर जा सकता हैं और कितना निर्दयी हो सकता हैं।

  • Conclusion

आज मैंने Kerala pregnant elephant death की घटना का स्मबंध मानव के स्वभाव और उसके अनेक चहरे से इसलिए जोड़ा है की लोग सीखे,

की हमे अपना personal devlopment करना ही चाहिए,दुनिया बहुत बदल चुकी है हर किसी पर विश्वास नहीं किया जा सकता। 

ये सतयुग नहीं कलयुग हैं,आप सतर्क रहे और ऐसे लोगो से सुरक्षित रहे,अपने आप को बेहतर बनाए कौन अच्छा है कौन बुरा हैं,कौन हमारा कैसे और क्यूँ इस्तेमाल कर रहा है इस बारे मे ध्यान अवश्य दे।

आशा करता हूँ आपको मेरा सुझाव सही लगा हो,अगर सही लगा है और आपने भी जीवन मे अपनों से धोके खाये है या किसी ने आपका फाइदा उठाया हैं तो आप मेरी इस बात को जरूर समझ पाये होंगे इसीलिए मेरी विनती है आपसे आप इस पोस्ट को ज्यादा से ज्यादा share करे।


धन्यवाद!


No comments:

Post a Comment

Bottom Ad [Post Page]

| Design Colorlib